Latest Blogs

Just a visitor

एक औरत हूं...

अतीत द्रष्टि

I am a Woman

Random Thought #6: The Rear Window Approach

24 October 2020, 08:03 PM

31°c , India

बंद खिड़कियों को खोल के

बंद खिड़कियों को खोल के

  • 202

बंद खिड़कियों को खोल के,
खुली हवा को आने दो।
सुबह की किरणें झांक सके,
पर्दे किनारे करने दो।
मेरे आंगन में लगे आम से,
बच्चों को आंबिया तोड़ने दो।
क्यारी में लगे गुलाबों पर,
भंवरों को मंडराने दो।
वक़्त ही कुछ ऐसे है,
कि बंद है दरवाजे।
तुम जो चाहो क़िस्मत के,
दरवाज़े खोलने दो।

................................................................................

Written by: Nidhi Kala. A Lecturer in college, Nidhi is a sensitive-to-nature-and-people kind of a person and in-closet poet.

Share this artical

Leave Comment